मेघालय – Meghalaya

भारत के उत्तर-पूर्व में स्थित सात बहन राज्य में से एक मेघालय (Meghalaya) को मेघोंका याने बदलोंका घर कहाँ जाता है। और पूर्व का स्कॉटलैंड भी कहाँ जाता है। यहाँ का एक ऐसा गाँव जो एशिया का सबसे स्वच्छ और सुंदर गाँव है। इस गाँव की साक्षरता दर 100% है। तो आइये आपको रूबरू कराते है। एक अनोखे राज्य मेघालय से

स्थापना21 जनवरी 1972
राजधानीशिलांग
ज़िले11
उच्च न्यायालयमेघालय उच्च न्यायलय
मुख्य मंत्रीकॉनराड संगमा
राज्यपालतथागत रॉय
विधानसभा सीट60
लोकसभा सीट2
राज्यसभा सीट1
कुल आबादी2,966,889 (2011)
घनत्व132 प्रति किमी
साक्षरता दर74.43% (2011)
लिंगानुपात986 (2011)
क्षेत्रफ़ल22429 वर्ग किमी
भाषाअंग्रेजी
Meghalaya Gk

सीमा – Boundary

भारत के उत्तर-पूर्व में स्थित सात बहन राज्य में से एक है। मेघायलय मेघयालय को उत्तर दिशा और उत्तर-पूर्व में भारतीय राज्य असम और दक्षिण और दक्षिण-पश्चिम में बांगला देश से अपनी सीमा साझा करता है।

राज्य चिन्ह – State Symbol

भूगोल Geography of Meghalaya

  • मेघालय की सबसे उच्ची चोटी शिलांग जो की 1965 मीटर उच्ची है।
  • दूसरे नंबर की सबसे उच्ची चोटी नोकरेक चोटी है।
  • यहाँ की प्रमुख नदियाँ सिमसंग, मंदा, जन्जीराम, दमरिंग आदि है।
  • यहाँ का प्रमुख कृषी उत्पाद चावल, मक्का, आलू, हल्दी, काली मिर्च, सुपारी, पान, संतरा आदि है।
  • कोयला, लाइमस्टोन, सिलीमेनाइट, चुनापत्थर मेघालय के प्रमुख उद्योग है।

राष्ट्रीय उद्यान और वन्यजीव अभयारण्य

  • बलाफकरम राष्ट्रीय उद्यान:- यह उद्यान मेघालय के साउथ गोरा हिल्स इस जिले में 220 वर्ग किमी में फ़ैला हुआ है। इस उद्यान की ख़ास बात यह है। की यहाँ प्रवेश शुल्क नहीं है।
  • नोकरेक राष्ट्रीय उद्यान:- यह उद्यान मेघालय के वेस्ट गोरा हिल्स ज़िले में तुरा शहर से 45 किमी के दुरी पर स्थित है।
  • सिजू पक्षी अभयारण्य:- यह अभयारण्य साऊथ गोरा हिल्स जिले में सिम्संग नदी के पास स्थित है।
  • नोंगखिल्लेम अभयारण्य:- यह अभयारण्य वेस्ट गोरा हिल्स ज़िले में 29 वर्ग किमी में फ़ैला हुआ है।
  • बाघमारा रिज़र्व जंगल (Baghmara Reserve Forest):- यह साऊथ गोरा ज़िले में स्थित है। यहाँ घूमने के लिए कोई लिमिट नहीं है। सुबह से लेकर शाम तक इस जंगल का आप पूरा मज्जा ले सक्ते हो।

Meghalaya Tourism

  • लिविंग रूट ब्रिज:- यह मानव निर्मित जीवित मूल पुल के नाम से जाने जाते है। यह मेघयालय के ख़ासी जनजाति के लोगो द्वारा रबड़ के पेड़ की जड़ो से बनाए गए है। यह देख ने के लिए कभी आश्चर्य करक जगह में से एक है। यह पुल चेरापूंजी और मनावलिननाँग में है।
  • शिलांग (Shillong):- सात बहन राज्यों में से एक मेघालय राज्य की राजधानी और भारत का एक हिल स्टेशन है शिलांग। जो की अपनी खूबसूरती और अनोखे अंदाज से दुनिया भर के पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करत्ता है। समुद्र तल से 1525 मीटर की उचाई पर 64.36 वर्ग किमी में फैला हुआ है शिलांग।
  • क्रंग सूरी फॉल्स:- यह एक छोटा लेकिन देखने के लिए काफ़ी सुंदर झरनों में से एक है। यहाँ जाने के लिए 50 रुपय का एन्ट्री टिकेट लेना पड़ता है। आप अग़र मेघालय घूमने ने केलिए जाए तो यहाँ जरूर जाइए।
  • यहाँ पर घूमने के लिए और भी काफ़ी बढ़िया जग़ह जैसे की मावफलांग पवित्र जंगल, लैटलम कैनियन, गुफाए, माव्रींगखंग बांस ट्रेक, मावल्यान्नॉंग आदि

GI Tags

  • मेमोंग नारंग (Memong Narang)
  • खासी मंदारिन संतरा (Khasi Mandarin Orange)

Festival of Meghalaya

  • शाद सुख मायनसीम
  • नोंगक्रेम त्यौहार
  • बेहदिंकहल्लम त्यौहार
  • शाद सुकरा
  • वांगला त्यौहार
  • स्ट्रॉबेरी त्यौहार

Facts About Meghalaya

  • मेघालय के लोग बहुत मेहनती लोग है। यह लोग सुबह का नास्ता 4 बजे ही करते है।
  • क्या आपको पता है। मेघालय को पूर्व का स्कॉटलैंड कहाँ जाता है।
  • इस राज्य की मसिन्ड्रॉम और चेरापूंजी ऐसी जग़ह है। जहाँ पूरी दुनियाँ में सबसे ज़्यादा बारिश होती है।
  • मोलिनॉग यह गाँव एशिया का सबसे सुंदर गाँवो है। साफसफाई के साथ शिक्षा में भी यह गाँव काफ़ी आगे है। यहाँ की साक्षरता दर 100% है। इस गाँव को 2003 में एशिया का सबसे सुंदर गाँव पुरस्कार हासिल है।
  • इस राज्य में सबसे ज्यादा ईसाई धर्म के लोग रहते है। और मुस्लिम, हिंदू, और सिख धर्म के लोग भी यहाँ रहते है।
  • इस राज्य की कुल 80% आबादी कृषी पर ही निर्भारित है। यहाँ का लगभग 70% हिस्सा जंगलो से भरा है।
  • यह राज्य आर्किड के फूल के लिए बहुत ही फ़ेमस है। यहाँ आर्किड के कुल 325 प्रजातियाँ पाई जाती है। और यह फूल यहाँ का राज्य फूल भी है।

यह भी पढ़े

  1. त्रिपुरा-Tripura
  2. मिज़ोरम (Mizoram )
  3. मणिपुर (Manipur)
  4. नागालैंड Nagaland
  5. अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh )
  6. असम (Assam)

अगर आपको इस ब्‍लॉग से संबंधित कोई भी जानकारी या सुझाव देना हो तो आप हमें कमेंट करे और इस ब्लॉग को अपने दोस्तो के साथ शेयर किजिए।

Related posts

Leave a Comment